महीना: नवम्बर 2018

जिदंगी में जन्म दिन की बेटे को हार्दिक शुभकामनाएं

तुम माँ के आंचल का खिलता गुलाब हो।
जिसने तुम्हें धरा पर लाया उसी आशा का दिया तुम उपहार हो।
जिसके खून का रगो में प्रवाह है उसकी खुशियों का तुम संचार हो।
हर शख्स को दो खुशी तुम बस यही विचार और विश्वास का आधार हो।
आज के दिन से तुम्हें वो भी खुशी हो हांसिल जिसका कभी किया न विचार हो।
इसी शुभकामनाओं के साथ जन्म दिन मुबारक हो।
रजनी अजीत सिंह 22.11.2018
#आशा
#विश्वास
#उपहार

जिदंगी के सफर में प्राणप्रिये के साथ जन्मदिन के खूबसूरत लम्हें।

आज के ही दिन तुम आये इस जहाँ में,
जब आये धरा पर तब मालूम न था,तुमको बनाया गया है मेरे लिए।
दिन बीते, बीते महीने और साल,
फिर वो दिन आया ईश्वर ने एक दूजे से मिलवाया।
कुछ दिन बीते अजनबियों से फिर एक दिन करीब हम आये थे।
साथ में जीना साथ में मरना ऐसी ही जाने कितनी कसमें खाये थे।
ऐसे साथ निभाना साथी हाथ कभी न छुड़ाना साथी,
हो मुश्किल कोई भी हाथ मेरा थामे रखना साथी।
हो राह कैसी भी साथ तुम चलते रहना,
मैं माँगती नहीं कुछ भी तुमसे, अब तक जैसे थे वैसे रहना,
बस ऐसे ही प्यार मुझे तुम करते रहना।
मेरी हर बात पर सलाह मुझे तुम देते रहना,
यही गुजारिश तुमसे साथ मेरा तुम अंतिम क्षण तक देते रहना।
शब्द उपहार – बेटा आशुतोष तिवारी प्रसिद्ध
सहयोगी – रजनी अजीत सिंह 21.11.2018
#जन्मदिन
#प्यार