जिदंगी में “सुहाग की निशानी”

माथे की बिंदी मांगो का सिन्दूर,

हाथों की चूड़ियाँ पैरो की पायल।

क्या ये मात्र सुहाग की निशानी है।

नहीं ये सब प्यार के निशानी है जो,

प्यार के अटूट बंधन में बांधती है।

रजनी अजीत सिंह 12.9.18
तीज की हार्दिक शुभकामनाएं

2 विचार “जिदंगी में “सुहाग की निशानी”&rdquo पर;

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।