जिंदगी में अनवरत चलना।

ये जिंदगी और खामोशियां
सवाल कर पूछती हैं?
थक गये क्या?
जवाब मिलता है,
थकना तो रुकना होता है।
हम तो निरन्तर, अनवरत,
बिना थके बिना रुके चले।
क्यों कि उसने ही कहा था,
न वर्तमान, न भूत, न भविष्य,
बस चलते चलते चलते रहना।
रजनी अजीत सिंह 3.4.18
#जिंदगी
#खामोशियां
#थकना
#yqbaba
#yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी में अनवरत चलना।&rdquo पर एक विचार;

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।