जिंदगी में गाँव की यादें।

गाँव और शहर के विरोधाभास का चित्रण कीजिये।
Collab कीजिये YQ Didi के साथ..
#गाँवशहर

featured quotes के लिए हमारे Instagram और Facebook pages पर visit करें।
App में Audio/Video के माध्यम से अपनी प्रदर्शन क्षमता को बढ़ाएं। लिखते रहें, अभिव्यक्त करते रहें।
शुभकामनाएँ।
#yqdidi #yqbaba #NaPoWriMo
#YourQuoteAndMine
Collaborating with YourQuote Didi
गाँव की हर पगडंडी शहर की ओर जाती हैं
लेकिन शहर के सभी रास्ते गाँव तक नहीं आते वजह ये है कि गाँव के लोग, गाँव के पगडंडी पर चलते हुए शहर तो जाते हैं क्यों कि उनकी मजबूरी रोजी रोटी की तलाश है जो शहर की तरफ खींचता है और एक बार शहर जाने के बाद जिंदगी ऐसे फंस जाती है कि गाँव की हंसी पुरानी यादें भी लौटने नहीं देती और फंसा देती है अच्छे संसाधनों के बीच और फिर हर मनुष्य का मंजिल शहर में बन जाता है यही वजह है कि शहर के सभी रास्ते गाँव तक नहीं जाते क्यों कि कोई वापस आना ही नहीं चाहता तो शहर के सभी रास्ते गाँव तक कैसे आते। अन्त में बस गाँव की सुहानी यादें और पतली पतली पगडंडी हमेशा मनको याद दिलाती हैं और पुरानी यादों में हमेशा बसकर दफन हो जाती हैं मन में और न चाहते हुए भी बस जाता है शहर में या गाँव में रहकर भी शहरी संसाधनों के माध्यम से गाँव की छवि भी शहर में बदल जाती है और न जाने कितने गाँव शहर में तब्दील हो जाते हैं।
रजनी अजीत सिंह 5.4.18

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

2 विचार “जिंदगी में गाँव की यादें।&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s