जिंदगी में “दीदी” का महत्व।

आज YQ Didi परिवार की संख्या 50 हज़ार को पार कर गयी है। यह हमारे लिए बड़े सम्मान की बात है। आप सभी का हार्दिक धन्यवाद।

YourQuote पर हमारा प्रयास रहा है कि YQ Didi के माध्यम से हिंदी भाषा में नव लेखन एवं हिंदी साहित्य के प्रचार-प्रसार को बल मिले। हम भविष्य में भी इसी प्रकार प्रयासरत रहें इस के लिए आप का सहयोग बहुत आवश्यक है।

आज के लेखन चैलेंज को आप सब अपनी दीदी को समर्पित करें जो आप के परिवार को बड़ी मज़बूती से आधार प्रदान करती हैं।

मेरी दीदी “ममता की मूर्ति है, साथ तो बिछड़ गया, मगर शादी के बाद भी सलामती की दुंआ की चाहत वही रही।
दूर चाहे जितना हों, मगर आपस के प्यार की ताकत वही रही।
शायद ये प्यार है एहसास का, लड़ाई कितनी भी हो, मगर दिल में इज्जत की जगह भरपूर रही।
तेरे दूर होने से थोड़ा अकेलेपन का एहसास जरूर हुआ, मगर प्यार की दौलत अभी भी भरपूर रही।
यूं तो बातें और बचपन का साथ तो कब का छूट गया, मगर जो प्यार दिल में बसाया था वो दौलत वही रही।
कदम में सबने लाकर डाल दी नेमते मगर, दूर होने के एहसास रूपी कांटों की चुभन वही रही।
मेरे खाने की चीजें जो देती थी “दीदी”
प्यार से, बासी भले हो जाये चाहे, मगर उसमें प्यार का स्वाद की मिठास खूब रही।
चैलेंज जब लिखने को देती है ये “दीदी” तो समझ नहीं आता क्या लिखूं, मगर
लिखने बैठती हूँ तो उसके ज्ञान के भण्डार में गोता लगा लिखने की खुशी खूब मिलती रही।
रजनी अजीत सिंह 2.4.18

#मेरीदीदी
#yqdidi #yqbaba #NaPoWriMo #YourQuoteAndMine
Collaborating with YourQuote Didi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

Advertisements

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s