जिंदगी में शांति कहाँ?

#शान्ति_विमर्श
#yqdidi #yqbhaijan #yqtales #YourQuoteAndMine
Collaborating with YourQuote Didi
शांति हमको कैसे मिलेगी? पूछ रहे क्यों जग से हो?
शांति हमको तभी मिलेगी, जब मन भीतर काम, क्रोध, मद, लोभ न हो।
शांति हमारी कहाँ है बसती, खोज रहे क्यों जग में हो।
शांति हमारे मन-मस्तिष्क और ह्रदय, अन्तःकरण में मिलती इसके अन्दर झांको तो।
शांति हमको कैसे मिलेगी? पूछ रहे क्यों जग में हो?
शांति हमारे अच्छे कर्म से मिलती, अच्छे कर्म करके देखो।
भूखे को भोजन, प्यासे को नीर और बेसहारे को सहारा बन बैठे तो देखो मन को शांति मिलेगी, कभी अशांति न मन में हो।
धर्म के नाम पर अशांति है छायी, जरा समानता का भाव लाकर देखो।
चाहे मंदिर, चाहे मस्जिद, चाहे चर्च गुरुद्वारे हो।
भेद भुलाके कुछ पल बैठो, देखो कितनी मिलती शांति यहां है।
देश में अपने शांति होगी तभी देश आगे बढ़ पायेगा।
जब मन में शांति होगी तभी अर्जुन सा लक्ष्य भेदन कर मंजिल अपना पायेगा।
चलो हम प्रतिज्ञा करलें, शांति को पाने के खातिर अपना सरल स्वभाव बनाकर शांति का शंखनाद एक प्यारी सी मुस्कुराहट से करते हैं।
रजनी अजीत सिंह 15.3.18

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

4 विचार “जिंदगी में शांति कहाँ?&rdquo पर;

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।