जिंदगी में सकूंन दे जाया करो। 

कभी कभी तो मेरे शब्दों का भाव समझ जाया करो।
मेरे शब्दों के साथ मेरे मन की बात को सवाल समझ जवाब तो दे जाया करो।
मेरे फिक्र करने की आदत को समझ कुछ शब्दों से ही मेरी भी फिक्र कर जाया करो।
ढेर सारी बातें न सही कुछ वाक्यों से ही मेरे मन को सकूंन दे जाया करो।
रजनी अजीत सिंह 30.12.17
#शब्द्
#सकून
#आदत
#yqbaba
#yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote