शुभ दीपावली 

दीपावली पाँच दिनों का त्योहार, मना लो खुशियाँ सब अपार। 

पहले धनतेरस, छोटी दिवाली और फिर आता बड़ी दीपाली का त्योहार। 

बनवास से लौटे थे श्री राम, अयोध्या में आयी थी खुशियां अपरम्पार। 

कहता शास्त्र जहाँ हो साफ सुथरा घर वार, वही होता लक्ष्मी जी का निवास। 

कार्तिक मास कृष्ण पक्ष चतुर्दशी हुआ नरक चतुर्दशी के नाम से ये विख्यात। 

गोवर्द्धन पूजा भी मशहूर जो आता दिवाली के सुबह हर बार, जो अन्नकूट नाम से है विख्यात।  

दीपावली के पाँचवा दिन भाईदूज का त्योहार, लगा रोली अक्षत का तिलक देती बहन उज्जवल भविष्य का आशीष। 

“रजनी ” ने किया छोटे में दीपावली का वर्णन सविस्तार, खुशियाँ लाये जीवन में अपार मुबारक दीपावली का त्योहार। 

        🎆🎆    रजनी सिंह 🎇🎇

10 विचार “    शुभ दीपावली &rdquo पर;

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।