जिंदगी की यादें पुराने गीत, गानों, तस्वीरों और कविताओं के साथ कहानी अपने जमाने की भाग – 1 और 2 (19.5.17)

जो लोग  पहले के लोग  हैं उनको पुराने दिन याद आ जाएंगे और जो लोग नये जनरेशन के हैं उन्हें पुराने गानों को सुनने का मौका और समझने का मौका भी। मैं आप लोगों को बताना चाहूंगी मैं संगीत सुनने की प्रेमी हूँ। संगीत सुनने से सकून चैन तो मिलता ही है साथ में सारे दिन के थकान दूर होने के साथ ही साथ मूड फ्रेश  भी हो जाता है। सही कहा न हमने पाठक गंण। मैं मात्र एक कैसेट में छे या सात गाने होते थे तब से सुनने के साथ साथ कैसेट कलेक्शन करने का भी शौक था। मेरे पास आज भी वो पुराने कैसेट का कलेक्शन है मैं रखी हूं फेका नहीं है ताकि मेरे फेवरेट गाने मिस न हो। उसके बोल से डाउनलोड करने में दिक्कत नहीं होती है। उसके बाद आया दस बारह गाने वाली सीडी उसके ओरिजिनल सीडी के कलेक्शन भी कर रखा था। अब आया एमपी 3 का जमाना उसका कलेक्शन भी अच्छा खासा किया हुआ है। उसके बाद का इतिहास तो आप लोगों को भी पता है पेन ड्राइव, हार्ड डिस्क, लेपटॉप, और सबसे बड़ा योगदान मोबाइल का हो गया है चाहे जहाँ रहो नेट है तो जो जी चाहे जब सुन लो। धन्यवाद उस नये तकनीक का जो अब सुनने के लिए कलेक्शन नहीं करने पड़ते हैं। 

 मुझे लता आशा भोसले अनुराधा पौडवाल, मुकेश, मोहम्मद रफी, सोनू निगम, पंकज उदास, आजकल में अर्जित सिंह आदि मेरे फेवरेट गायक हैं जिन्हें सुनकर मन झूम उठता है। मुझे भजन सुनना बहुत ज्यादा ही पसंद है और उसमें भी भोजपुरी पचरा जो माँ की याद दिला जाती है। जब चेचक के टीके लगते थे तो विल्कुल मुझे देवी जी की तरह मानना और पूजा कर पचरा गाना आज भी याद आ जाती है और माँ की याद दिला जाती है। भोजपुरी गायक और गानों के कलेक्शन  के गाने के दो दो लाइन अगले अंक यानी भाग दो में पढ सकेगें

भोजपुरी गायक में मनोज तिवारी, पवनकुमार, भरत शर्मा, गुड्डू रंगीला, कल्पना, अनुदूबेआदि। 

और खड़ी हिन्दी में गुलशन कुमार, अनुराधा पौलम्बा,  लख्खाआदि फेवरेट गायक हैं। 

अब यहां से शुरू होगी मेरी जिंदगी की कहानी। 

            रजनी सिंह 

भाग दो आगे पढ़ें। 

यहाँ  से मेरी जिंदगी की हकीकत जुडने वाली है जिसको लिखने के लिए सूझबूझ के साथ कभी न रुकने वाली लेखनी चाहिए जैसे भागवत लिखते समय गणेश जी की लेखनी नहीं रुकीथी। 

मेरे लिखने में कोई विघ्न न आये इस लिए मैं वंदनागीत के माध्यम से करूगीं। क्योंकि जहां तक मैं जानती हूँ गणेश जी सब विघ्नों को हरने वाले हैं। और किसी भी कार्य का शुभ आरम्भ गणेश जी की वंदना से कीजाती है। 

                   पेश है दो गीत 

1.  सब देवों ने फूल बरसाये महाराज गजानन आये-2

देवा कौन है तेरी माता-2 और कौन है गोद खेलाए, महाराज गजानन आये। देवा पार्वती मेरी माता शंकर ने गोद खेलाए। महाराज गजानन आये।

देवा क्या है तेरी पूजा -2काहे का भोग लगाएं महाराज गजानन आए। 
देवा धूप दीप मेरी पूजा-2मोदक भोग लगाएं। महाराज गजानन आए। 

2.           गीत

देखो ब्रह्मा और विष्णु महेश निकले संकट काटन को श्री गणेश  निकले – 2। 

देखो राम की महिमा न्यारी है उनके साथ में जनक दुलारी हैं। 

उनके बाणों से रावण के प्राण निकले संकट काटन को श्री गणेश निकले। 

देखो ब्रह्मा की महिमा न्यारी है उनके साथ में सरस्वती माता है। उनके वाणी से वेदो का सार निकले। संकट काटन को श्री गणेश निकले। 

देखो शिवजी की महिमा न्यारी है। उनके साथ में गौरी भवानी हैं। उनकी जटा से गंगा की धार निकले। संकट काटन को श्री गणेश निकले।

देखो कृष्ण की लीला न्यारी है। उनके संग में राधा रानी है। उनके मुख से गीता का ज्ञान निकले। संकट काटन को श्री गणेश निकले।

देखो ब़ह्ममाऔर विष्णु महेश निकले संकट काटन को श्री गणेश निकले। 

देखो हनुमान की महिमा न्यारी है। उनके संग में अंजना माई है। उनके हृदय में सिया राम निकले। संकट काटन को श्री गणेश निकले

देखो तुलसी की महिमा न्यारी है उनके सामने भोजन की थाली है। उनके सामने शालिग्राम निकले। 

संकट काटन को श्री गणेश निकले। देखो ब़ह्ममाऔर विष्णु महेश निकले संकट काटन को श्री गणेश निकले। 

ये गीत लोक प्रचलित है कौन लिखा किसने बनाया और सबसे पहले किसने गाया कुछ अता पता नहीं है। एक बात बताना भूल गयी थी। जिसके पास टेप और कैसेट नहीं थे तो लिख कर ही गानों का कलेक्शन करना पड़ता था तो चुकी मुझे गीत गाने और कलेक्शन करने दोनो के शौक हैं इसलिए लिखकर डायरी मेंटेन करती हूँ। और एक बात बताऊँ मुझे तस्वीर का कलेक्शन करना अच्छा लगता है। मेरे पास 92साल पुरानी तस्वीर है जो मेरे बाबा दादी जी की है जो देखकर लगता है कि मेरे पूर्वज भी मेरी तरह शौकीन थे। वे तस्वीर ब्लैक एंड व्हाइट है जिसे मैं कहानी जहाँ सूट करेगा जरूर लगाउंगी अपने ब्लॉग के पोस्ट पर। 

नोट-जो माताएं, भाईऔर बहनें गाने के शौकीन हैं ओ लिख और गा सकते हैं मुझे कोई आपत्ति नहीं है। मुझे खुद के बनाये गानों पर भी कोई आपत्ति नहीं है तो ये तो लोक में प्रचलित गीत है। हां अगर कोई सी. डी बना कोई गायक गाता है तो  खुद के बनाए गानोंपर लिखने वाले लेखक यानी मेरा नाम होना चाहिए। 

दूसरे का नाम होने पर मुझे आपत्ति सदैव रहेगी। 

 इसी के साथ आपकी अपनी रजनी अजीत सिंह 

आगे कहानी भाग-3 पढें और बताएं मेरा कलेक्शन कैसा लगा? 

11 विचार “जिंदगी की यादें पुराने गीत, गानों, तस्वीरों और कविताओं के साथ कहानी अपने जमाने की भाग – 1 और 2 (19.5.17)&rdquo पर;

  1. गाने के माध्यम से मेरी रियल लाइफ की कहानी भी है। मैं सब कुछ ओरिजिनल डालना चाहती हूँ। लाइफ पार्टनर का बिरोध नहीं रहता वाणिज्य सहयोग ही मिलता है परन्तु पैरेंट्स को आपत्ति है रियल तस्वीर जमाने को देखते हुए। यही रिजनहै कि मैं अपनी आत्मकथा पब्लिश नहीं कर पाती हूँ। कभी कभी तो लगता है मियां बीबी राजी तो क्या करें गए काजी। मैंने वैलेंटाइन डे पर रियल तस्वीर डाल दिया था बाप रे बवाल खडा हो गया था। आपकी क्या राय है रियल तस्वीर सुरक्षा की दृष्टि से डालना चाहिए कि नहीं।

    पसंद करें

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।