फादर्स डे का महत्व18.6.17

वैसे आज के दिन फादर्स  डे मना  रहे हैं। वे उसके लिए है जो  दूर  है या किसी कारण से बात  नहीं हो पाती है तो इसीलिए इसी बहाने  याद कर लेते हैं  लोग। मेरा मानना है मदर्स डे, फादर्स  डे प्रत्येक दिन होना  चाहिये। मदर्स डे, फादर्स  डे इज इवरी डे। 

माँ – बाप के त्यागो  को हम  एक दिन मना, 

अपना  फर्ज अदा कर  सकते  नहीं । 

पूरा जीवन अर्पण कर  भी उनका कर्ज अदा कर  सकते  नहीं। 

 इसी  लिए कहती है रजनी 

हर  दिन माँ – बाप का गोद  और उनसे हमें प्यार मिले। 

हर  दिन माँ – बाप को सम्मान मिले   और  हर  दिन माँ – बाप का  दिन मने। 

               कविता 

जिसके पास माँ – बाप नहीं उसका दर्द।

जिसने   दुःख ही दुःख देखा वो सुख की कीमत क्या जाने। 

धूप में जलते पांव है जिसके वो छांव की कीमत क्या जाने। 

जिसके मां-बाप पास में हैं माँ-बाप दूर होने की कीमत क्या जाने। 

जिस सिर पर बाप का हाथ नहीं वो बाप के होने की कीमत क्या जाने। 

      साथ हैप्पी फादर्स  डे। 

       माँ  बाप की सेवा  में उपस्थित 

                      रजनी सिंह 

17 विचार “फादर्स डे का महत्व18.6.17&rdquo पर;

        1. कोई बात नहीं नाम से क्या मैं शब्दों और विचारों से पहचानती हूँ। हमारी माँ सब जानती है। हमारी माँ ने तो रात नाम रखा है जिसका अर्थ ही अंधेरा है पर हमारी देवी माँ सपने में कहती हैं तुम्हें पारस बनना है अर्थात वो पत्थर जिसके सम्पर्क में आने पर लोहा भी सोना बन जाता है विचारों से समझे कुछ।

          पसंद करें

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।