महिला दिवस (8.3.17)

आओ महिला हम सब मिलकर महिला दिवस मनायेें।
कुछ जीवन में करने खातिर सोयी शक्ति जगायें।

दुर्गा बन उपकार करेंगे, रण चण्डी बन रण में लड़ेगें हम।
कहीं काली बन दुष्टों का रक्त पान करेंगे हम।

कहीं पालनहारी बनकरके सबका पालन कर लेगें हम।

कहीं कल्याणी बन करके जगत कल्याण करेंगे हम।

कहीं अनुसुईया, सीता बन पतिबरता धर्म निभाएगें हम।

कहीं रानी लक्ष्मीबाई, तो कहीं सावित्री बन जाएगें हम।

कहीं आम औरत बनकरके ही जीवन का फर्ज निभाएगें हम।

आओ महिला दिवस मनाकर आज कुछ अच्छा करने का संकल्प लेकरके भारत का मान बढ़ायें हम।

रजनी सिंह

11 विचार “           महिला दिवस (8.3.17)&rdquo पर;

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।