जिंदगी में रिश्तों पर विश्वास। 


जिंदगी में रिश्तों में जिस पर सबसे अधिक विश्वास किया।
झूठ को जानते हुए भी सच समझ विश्वास किया।
वही इंसान झूठ पर परत चढ़ा सच न बता मेरे विश्वास को कैसे तोड़ सकता है।

मेरे विश्वास का ऐसा हश्र क्यों किया।
मान अपमान सब कुछ सहा पर अपने सवालों का जवाब न मिलने का दर्द सहा नहीं जाता।
खामोश इसलिए हूँ कि रिस्ते जब समझ में न आये तब तोड़ने से बेहतर है खामोश हो जाना। क्योंकि रिश्ते का नाम दिया है मजाक नहीं किया।

रजनी अजीत सिंह 21.11.17
#जिंदगी😀, #विश्वास, #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

Advertisements

जिंदगी को लगा दिया है काम में। 


जिंदगी को लगा दिया है काम में।
अपनो को भूला दिया है कुछ वक्त के लिए।

बातें जब समझ के बाहर हो तो प्यार में भ़म न लाओ अपनो के लिए।

कुछ वक्त के लिए भूला दो अपनो को कुछ बेहतर करने के लिए।

रजनी अजीत सिंह
#जिंदगी_उथल_पुथल, #प्यार्, #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी में शब्दों का अर्थ। 


मेरे शब्दों में कई अर्थ छुपा है जो समझने का प्रयास करे वो भी सुखी जो न समझ पाय वो भी सुखी।

मेरे शब्दों के सागर में समुद्र से भी गहरा अर्थ छुपा है समुद्र मंथन कर सब कुछ पा जाओगे।
जरा गौर से तो पढोँ दोस्तों शब्दों के मोती चुन लोगे और सागर की सूता को बस में कर जीवन धन्य कर पाओगे।

रजनी अजीत सिंह 15.11.17
#हिन्दी_कवीता, #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी में खुशी। 


जैसे मेहदी रची हाथों में नाम छुपा साजन का।
वैसे मेरे खुशियों का राज छुपा एक मुस्कान में।
कई जन्मों का साथ मिला साजन का एक पल में ही सदियों की खुशी मिली तेरे मुस्कान में।
रजनी अजीत सिंह
#yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी में साथी का साथ। 


अपने साथी के साथ खुशी से जी रही हूँ मैं।
हर खुशी का घूंट स्वाद ले पी रही हूँ मैं।
मुझ नसीब वाले को कुछ अजीज लोगों का साथ और 😊मुस्कान ऐसा मिला।
अपने जख्मों को सी सकूंन से जी खुशियाँ मना रही हूँ मैं।

रजनी अजीत सिंह
#साथी, #खुशी_और_गम, #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी मेरी जिंदगी है। 


तुम मेरे जिंदगी हो तुझ पर प्यार आता है तो हम छुपायें क्यों?
शादी कर इश्क किया है कोई खता नहीं की हमने फिर दुनिया से नजरे चुरायें क्यों?
दूर जाते हैं हमसे अपने अपनी खामियों से फिर हम गम मनायें क्यों?
दर्द हो या खुशी बस हमारा है हमारा रहेगा हम उसे दुनिया से बताएं क्यों?
हंसते मुस्कुराते लब हैं मेरे इसे आँखों का मोती बनायें क्यों?
मेरे पतिव्रता धर्म में भगवान् तो तुम हो फिर हम पत्थर को भगवान् बनाये क्यों?

रजनी अजीत सिंह 15.11.17
#जिंदगी😀, #प्यार्,#yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी में मेरी ख्वाहिश है जिन्दगी। 

आपके आने से मेरे जीवन में रौशनी हुआ करती है।
वजह आप हैं जो जिंदगी सूकूं पाया करती है।
चांद सा चमकता चेहरा आपका मैं देखकर ही जिंदगी जिया करती हूं।
तेरी खूबसूरती को दुनिया से छिपा कर दिल में बसा कर रखा है।
तुझे सागर रूपी प्यार के गहराईयों में उतारा है।
अजीजो में भी तू अजीज है मेरा दुनिया में तुझे जिंदगी कह बुलाया करती हूं।

रजनी अजीत सिंह 15.11.17

#हिन्दी_कवीता, #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

बाल दिवस 

हम 14नवम्बर को नेहरू जी का जन्म दिन मनाते हैं।
आज का दिन ही बाल दिवस के नाम से जाना जाता है।
बच्चों के बीच खेल कूद नेहरू जी खुद बच्चा बन जाते थे।
इसलिए तो बच्चों के बीच चाचा नेहरू कहलाते थे।
बाल दिवस हर साल ही मनता पर बाल मजदूरी करना छोड़ बच्चे कितने शिक्षित हो पाते हैं।
कुपोषण के हो शिकार और गरीबी से कितने बच्चे तड़प तड़प मर जाते हैं।
बाल दिवस सही मायने में तब मनता, जब हर बच्चों को शिक्षा मिलती। बाल मजदूरी ना होती।
उनका भविष्य भी उज्ज्वल होता, तब बाल दिवस हर दिन ही होता जीवन बच्चों का सवंर जाता। ।
बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
रजनी अजीत सिंह
#बाल_मज़दूरी, #बाल दिवस, #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी में हालात। 

हलात हमारे नासमझी के कुछ ऐसे हो गये हैं कि जब तक कुछ समझ में न आये तब तक हमें भी मौन ब़त ही धारण कर लेना चाहिए ऐसा मेरा आज का एहसास है।
रजनी अजीत सिंह 14.11.17

#हालात, #नासमझी #एहसास #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote

जिंदगी की हकीकत। 


जिंदगी की हकीकत कुछ कह लेती हूँ, कुछ सवाल कर लेती हूं। जवाब न मिलने पर उसका उत्तर खुद ही ढूंढने के प्रयास में लग जाती हूँ।
जब सवाल बार – बार हाबी होता है मन पर और ढूंढने में हार जाती हूँ तो जानने की जिज्ञासा फिर निराशा की तरफ बढ़ने लगती हैं। ये अपना सौभाग्य भी है और दुर्भाग्य भी की मैं नकाम हो जाती हूँ पर फिर वही लाइन याद आ जाता है – कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होती। चुनौती चुन चुन कर आती हैं डर जाने से नौका पार नहीं होती। और फिर सवाल के जवाब की तलाश में आगे बढ़ जाती हूँ।

रजनी अजीत सिंह
#जिंदगीं, #हकीकत, #yqbaba #yqdidi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/rajnisingh #yourquote